Actions

Difference between revisions of "अंग"

From जैनकोष

Line 1: Line 1:
 
१. (म. पु. प्र. ४९/पं. पन्नालाल) मगध देश का पूर्व भाग। प्रधान नगर चम्पा (भागलपुर) है। २. भरत क्षेत्र आर्य खण्ड का एक देश - <b>देखे </b>[[मनुष्य]] /४। ३. ([[पद्मपुराण]] सर्ग १०/१२) सुग्रीव का बड़ा पुत्र। ५. ४. ([[धवला]] पुस्तक संख्या ५/प्र. २७) Element। <br>पं. ध./उ./४७८ लक्षणं च गुणश्चाङ्गं शब्दाश्चैकार्थवाचकाः। <br><p class="HindiSentence">= लक्षण, गुण और अंग ये सब एकार्थवाचक शब्द हैं।</p><br>• अनुमान के पाँच अंग – <b>देखे </b>[[अनुमान]] /३।<br>• जल्प के चार अंग - <b>देखे </b>[[जल्प]] ।<br>• सम्यग्दर्शन, ज्ञान व चारित्र के अंग - <b>देखे </b>[[वह वह नाम]] ।<br>• शरीर के अंग - <b>देखे </b>[[अंगोपांग]] ।<br>[[Category:अ]] [[Category:पद्मपुराण]] [[Category:धवला]]
 
१. (म. पु. प्र. ४९/पं. पन्नालाल) मगध देश का पूर्व भाग। प्रधान नगर चम्पा (भागलपुर) है। २. भरत क्षेत्र आर्य खण्ड का एक देश - <b>देखे </b>[[मनुष्य]] /४। ३. ([[पद्मपुराण]] सर्ग १०/१२) सुग्रीव का बड़ा पुत्र। ५. ४. ([[धवला]] पुस्तक संख्या ५/प्र. २७) Element। <br>पं. ध./उ./४७८ लक्षणं च गुणश्चाङ्गं शब्दाश्चैकार्थवाचकाः। <br><p class="HindiSentence">= लक्षण, गुण और अंग ये सब एकार्थवाचक शब्द हैं।</p><br>• अनुमान के पाँच अंग – <b>देखे </b>[[अनुमान]] /३।<br>• जल्प के चार अंग - <b>देखे </b>[[जल्प]] ।<br>• सम्यग्दर्शन, ज्ञान व चारित्र के अंग - <b>देखे </b>[[वह वह नाम]] ।<br>• शरीर के अंग - <b>देखे </b>[[अंगोपांग]] ।<br>[[Category:अ]] [[Category:पद्मपुराण]] [[Category:धवला]]
 +
१. (म. पु. प्र. ४९/पं. पन्नालाल) मगध देश का पूर्व भाग। प्रधान नगर चम्पा (भागलपुर) है। २. भरत क्षेत्र आर्य खण्ड का एक देश - <b>देखे </b>[[मनुष्य]] /४। ३. ([[पद्मपुराण]] सर्ग १०/१२) सुग्रीव का बड़ा पुत्र। ५. ४. ([[धवला]] पुस्तक संख्या ५/प्र. २७) Element। <br>
 +
पं. ध./उ./४७८ लक्षणं च गुणश्चाङ्गं शब्दाश्चैकार्थवाचकाः। <br>
 +
<p class="HindiSentence">= लक्षण, गुण और अंग ये सब एकार्थवाचक शब्द हैं।</p><br>
 +
• अनुमान के पाँच अंग – <b>देखे </b>[[अनुमान]] /३।<br>
 +
• जल्प के चार अंग - <b>देखे </b>[[जल्प]] ।<br>
 +
• सम्यग्दर्शन, ज्ञान व चारित्र के अंग - <b>देखे </b>[[वह वह नाम]] ।<br>
 +
• शरीर के अंग - <b>देखे </b>[[अंगोपांग]] ।<br>
 +
[[Category:अ]]
 +
[[Category:पद्मपुराण]]
 +
[[Category:धवला]]

Revision as of 05:52, 1 May 2009

१. (म. पु. प्र. ४९/पं. पन्नालाल) मगध देश का पूर्व भाग। प्रधान नगर चम्पा (भागलपुर) है। २. भरत क्षेत्र आर्य खण्ड का एक देश - देखे मनुष्य /४। ३. (पद्मपुराण सर्ग १०/१२) सुग्रीव का बड़ा पुत्र। ५. ४. (धवला पुस्तक संख्या ५/प्र. २७) Element।
पं. ध./उ./४७८ लक्षणं च गुणश्चाङ्गं शब्दाश्चैकार्थवाचकाः।

= लक्षण, गुण और अंग ये सब एकार्थवाचक शब्द हैं।


• अनुमान के पाँच अंग – देखे अनुमान /३।
• जल्प के चार अंग - देखे जल्प
• सम्यग्दर्शन, ज्ञान व चारित्र के अंग - देखे वह वह नाम
• शरीर के अंग - देखे अंगोपांग

१. (म. पु. प्र. ४९/पं. पन्नालाल) मगध देश का पूर्व भाग। प्रधान नगर चम्पा (भागलपुर) है। २. भरत क्षेत्र आर्य खण्ड का एक देश - देखे मनुष्य /४। ३. (पद्मपुराण सर्ग १०/१२) सुग्रीव का बड़ा पुत्र। ५. ४. (धवला पुस्तक संख्या ५/प्र. २७) Element।
पं. ध./उ./४७८ लक्षणं च गुणश्चाङ्गं शब्दाश्चैकार्थवाचकाः।

= लक्षण, गुण और अंग ये सब एकार्थवाचक शब्द हैं।


• अनुमान के पाँच अंग – देखे अनुमान /३।
• जल्प के चार अंग - देखे जल्प
• सम्यग्दर्शन, ज्ञान व चारित्र के अंग - देखे वह वह नाम
• शरीर के अंग - देखे अंगोपांग