Actions

अंजनगिरि

From जैनकोष

Revision as of 05:21, 1 August 2008 by Vikasnd (talk | contribs) (New page: १. नन्दीश्वर द्वीप की पूर्वादि दिशाओं में ढोल के आकार के (Cylindrical) चार पर्वत ...)
(diff) ← Older revision | Latest revision (diff) | Newer revision → (diff)

१. नन्दीश्वर द्वीप की पूर्वादि दिशाओं में ढोल के आकार के (Cylindrical) चार पर्वत हैं। इनपर चार चैत्यालय हैं। काले रंग के होने के कारण इनका नाम अंजनगिरि है - दे. लोक ४/५। २. रुचक पर्वतस्थ वर्द्धमान कूट का रक्षक एक दिग्गजेन्द्रदेव - दे. लोक ५/१३।