Actions

कुमति कुनारि नहीं है भली रे

From जैनकोष

कुमति कुनारि नहीं है भली रे, सुमति नारि सुन्दर गुनवाली ।।टेक ।।
वासौं विरचि रचौ नित यासौं, जो पावो शिवधाम गली रे ।
वह कुबजा दुखदा, यह राधा, बाधा टारन करन रली रे ।।१ ।।
वह कारी परसौं रति ठानत, मानत नाहिं न सीख भली रे ।
यह गोरी चिदगुण सहचारिनि, रमत सदा स्वसमाधि-थली रे ।।२ ।।
वा संग कुथल कुयोनि वस्यौ नित, तहाँ महादुखबेल फली रे ।
या संग रसिक भविनकी निजमें, परिनति `दौल' भई न चली रे ।।३ ।।