Actions

कहे सीताजी सुनो रामचन्द्र

From जैनकोष

कहे सीताजी सुनो रामचन्द्र
कहै सीताजी सुनो रामचन्द्र, संसार महादुखवृक्षकन्द ।।कहै. ।।
पंचेन्द्री भोग भुजंग जानि, यह देह अपावन रोगखानि।।१ ।।
यह राज रजमयी पापमूल, परिग्रह आरँभ में छिन न भूल ।।२ ।।
आपद सम्पद घर बंधु गेह, सुत संकल फाँसी नारि नेह ।।३ ।।
जिय रुल्यो निगोद अनन्त काल, बिनु जानैं ऊरध मधि पाताल ।।४ ।।
तुम जानत करत न आप काज, अरु मोहि निषेधो क्यों न लाज ।।५ ।।
तब केश उपरि सबै खिमाय, दीक्षा धरि कीन्हों तप सुभाय ।।६ ।।
`द्यानत' ठारै दिन ले सन्यास, भयो इन्द्र सोलहैं सुरग बास ।।७ ।।