Actions

गौतम स्वामीजी मोहि वानी तनक सुनाई

From जैनकोष

गौतम स्वामीजी मोहि वानी तनक सुनाई
जैसी वानी तुमने जानी, तैसी मोहि बताई।।गौतम. ।।१ ।।
जा वानीतैं श्रेणिक समझ्यो, क्षायक समकित पाई।।गौतम.।।२ ।।
`द्यानत' भूप अनेक तरे हैं, वानी सफल सुहाई।।गौतम.।।३ ।।