Actions

चिदरायगुन सुनो मुनो

From जैनकोष

चिदरायगुन सुनो मुनो प्रशस्त गुरुगिरा ।
समस्त तज विभाव, हो स्वकीयमें थिरा ।।चिदरायगुन. ।।
निजभावके लखाव बिन, भवाब्धिमें परा ।
जामन मरन जरा त्रिदोष, अग्निमें जरा।।१ ।।चिदरायगुन. ।।
फिर सादि औ अनादि दो, निगोदमें परा ।
तहँ अंकके असंख्यभाग, ज्ञान ऊबरा।।२ ।।चिदरायगुन. ।।
तहाँ भव अन्तरमुहूर्तके कहे गनेश्वरा ।
छयासठ सहस त्रिशत छतीस, जन्म धर मरा।।३ ।।चिदरायगुन. ।।
यौं वशि अनंतकाल फिर, तहांतै नीसरा ।
भूजल अनिल अनल प्रतेक, तरुमें तन धरा।।४ ।।चिदरायगुन. ।।
अनुंधरीसु कुंथु कानमच्छ अवतरा ।
जल थल खचर कुनर नरक, असुर उपज मरा।।५ ।।चिदरायगुन. ।।
अबके सुथल सुकुल सुसंग, बोध लहि खरा ।
`दौलत' त्रिरत्न साध लाध, पद अनुत्तरा।।६ ।।चिदरायगुन. ।।