Actions

चेतन! मान ले बात हमारी

From जैनकोष

चेतन! मान ले बात हमारी
पुद्गल जीव जीव पुद्गल नहिं, दोनों की विधि न्यारी।।चेतन. ।।१ ।।
चहुँगतिरूप विभाव दशा है, मोखमाहिं अविकारी।।चेतन. ।।२।।
`द्यानत' दरवित सिद्ध विराजै, `सोहं' जपि सुखकारी।।चेतन. ।।३ ।।