Actions

जो आज दिन है वो, कल ना रहेगा, कल ना रहेगा

From जैनकोष

जो आज दिन है वो, कल ना रहेगा, कल ना रहेगा,
घड़ी ना रहेगी ये पल ना रहेगा ।
समझ सीख गुरु की वाणी, फिरको कहेगा, फिरको कहेगा,
घड़ी ना रहेगी ये पल ना रहेगा ।।टेक ।।
जग भोगों के पीछे, अनन्तों काल काल बीते हैं ।
इस आशा तृष्णा के अभी भी सपने रीते हैं ।
बना मूढ़ कबलों मन पर, चलता रहेगा-२ ।।घड़ी ।।१ ।।
अरे इस माटी के तन पे, वृथा अभिमान है तेरा ।
पड़ा रह जायगा वैभव, उठेगा छोड़ जब डेरा ।
नहीं साथ आया न जाते, कोई संग रहेगा-२ ।।घड़ी ।।२ ।।
ज्ञानदृग खोलकर चेतन, भेदविज्ञान घट भर ले ।
सहज `सौभाग्य' सुख साधन, मुक्ति रमणी सखा वर ले ।
यही एक पद है प्रियवर, अमर जो रहेगा-२ ।।घड़ी ।।३ ।।