Actions

तेरो संजम बिन रे, नरभव निरफल जाय

From जैनकोष

तेरो संजम बिन रे, नरभव निरफल जाय
बरष मास दिन पहर महूरत, कीजे मन वच काय।।तेरो. ।।१ ।।
सुरग नरक पशु गतिमें नाहीं, कर आलस छिटकाय।।तेरो.।।२ ।।
`द्यानत' जा बिन कबहुँ न सीझैं, राजबिषैं जिनराय।।तेरो.।।३ ।।