Actions

पाठ

भक्तामर—आचार्य मानतुंग

From जैनकोष

स्तोत्रस्त्रजं तव जिनेन्द्र गुणैर्निबद्धां

भक्त्या मया विविध-वर्ण-विचित्रपुष्पाम्

धत्ते जनो य इह कंठगतामजस्रं

तं मानतुंगमवशा समुपैति लक्ष्मीः ॥४८॥