Actions

यशोभद्र

From जैनकोष


  1. श्रुतकेवली भद्रबाहु द्वि. गुरु ९ अंगधारी अथवा आचारगंधारी। समयवि. नि. ४७४-४९२ (ई. पू. ५३-३५)। ( देखें - इतिहास / ४ / ४ )।
  2. जिनसेन (ई. १८१८-१८७८) के आदि पुराण में प्रखर तार्किक के रूप में स्मृत और आ. पूज्यपाद (वि. श. ५-६) के जैनेन्द्र व्याकरण में नामोल्लेख। अतः समयवि. श. ६ (ई. श. ५ उत्तरार्ध)। (ती./२/४५१)।

Previous Page Next Page