Actions

वनीपक

From जैनकोष



आहार सम्बन्धी एक दोष - देखें - आहार / II / ४ / ४

Previous Page Next Page