Actions

अंकप्रभ

From जैनकोष

कुण्डलपर्वतस्थ कूट - देखे लोक ५/१२।