Actions

दीठा भागनतैं जिनपाला

From जैनकोष

दीठा भागनतैं जिनपाला मोहनाशनेवाला ।।टेक. ।।
सुभग निशंक रागविन यातैं, बसन न आयुधवाला ।।१ ।।
जास ज्ञानमें युगपत भासत, सकल पदारथ माला ।।२ ।।
निजमें लीन हीन इच्छा पर, हितमितवचन रसाला ।।३ ।।
लखि जाकी छवि आतमनिधि निज, पावत होत निहाला ।।४ ।।
`दौल' जासगुन चिंतत रत है, निकट विकट भवनाला ।।५ ।।