Actions

विराग

From जैनकोष



राजवार्तिक/7/12/4/539/12 रागकारणाभाव्रात् विषयेभ्यो विरंजनं विरागः। = राग के कारणों का अर्थात् चारित्रमोह के उदय का अभाव हो जाने से पञ्चेन्द्रिय के विषयों से विरक्त होने का नाम विराग है।
प्रवचनसार / तात्पर्यवृत्ति/239/ प्रक्षेपक गा.1 टीका/332/12 पञ्चेन्द्रियसुखाभिलाषत्यागो विषयविरागाः। पाँचों इन्द्रियों के सुख की अभिलाषा का त्याग विषयविराग है।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ