षडंगवल

From जैनकोष



छ: अंगों वाली एक विद्या । ये अंग हैं― हस्तिसेना, अश्वसेना, रथसेना, पदातिसेना, देवसेना और विद्याधरसेना । यह बल चक्रवर्ती राजाओं का होता है । महापुराण 29.6


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ