षाडव

From जैनकोष



चौदह मूर्च्छनाओं का एक स्वर इसकी उत्पत्ति छ: स्वरों से होती है । हरिवंशपुराण 19.169


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ