षोडशकारण भावना व्रत

From जैनकोष

16 वर्ष तक, वा 5 वर्ष तक, अथवा जघन्य एक वर्ष तक प्रतिवर्ष भाद्रपद, माघ व चैत्र, इन तीनों महीनों में कृ.1 से लेकर अगले महीने की कृ.1 तक 32 दिन तक क्रमश: 32 उपवास, वा 16 उपवास, 16 पारणा, अथवा जघन्य विधि से 32 एकाशना करे।

जाप्य - 'ओं ह्रीं दर्शनविशुद्धयादिषोडशकारणेभ्यो नम:।' इस मंत्र का त्रिकाल जाप करे। (व्रत विधान सं./पृ.38)।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ