ज्ञानभूषण

From जैनकोष



  1. नंदिसंघ ईडरगद्दी। पहले विमलकीर्ति के और पीछे भुवनकीर्ति के शिष्य हुए। कृतियाँ–आत्म संबोधन काव्य तत्त्वज्ञान तरंगिनी, नेमि निर्वाण काव्य की पंजिका टीका, पूजाष्टक टीका, भक्तामर पूजा, श्रुतपूजा, सरस्वती पूजा, समय–तत्त्वज्ञान तरंगिनी का रचना काल वि.1560 (भट्टारक काल वि.1500-1562 (ई.1443-1505)। देखें इतिहास - 7.4। (ती./3/348)।
  2. सूरतगद्दी वीरचंद के शिष्य/सुमति कीर्ति की कृतियों का शोधन तथा उनके साथ कर्म प्रकृति, टीका लिखी। समय वि.1585-1616/देखें इतिहास - 7.4। जै./2।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ