ज्ञानाग्नि

From जैनकोष



शरीर में ही सदा विद्यमान ज्ञानाग्नि, दर्शनाग्नि, तथा जठराग्नि इन तीन अग्नियों मे प्रथम अग्नि । पद्मपुराण 11. 248


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ