Actions

लोभ

From जैनकोष

== सिद्धांतकोष से ==

  1. आहार का एक दोष−देखें आहार - II.4.4
  2. वसतिका का एक दोष−देखें वसतिका
  1. लोभ
    रा. वा./8/9/5/574/32 अनुग्रहप्रवणद्रव्याद्यभिकाङ्क्षवेशो लोभः कृमिराग-कज्जल-कर्दम-हरिद्रारागसदृशश्चतुर्विधः। = धन आदि की तीव्र आकांक्षा या गृद्धि लोभ है। यह किरकिची रंग, काजल, कीचड़ और हलदी के रंग के समान चार प्रकार का है।
    ध. 1/1, 1, 111/342/8 गर्हा काङ्क्षा लोभः। = गर्हा या कांक्षा को लोभ कहते हैं।
    ध. 6/1, 9-1, 23/41/5 लोभो गृद्धिरित्येकोऽर्थः। = लोभ और गृद्धि एकार्थक हैं।
    ध. 12/4, 2, 88/283/8 बाह्यार्थेषु ममेदं बुद्धिर्लोभः। = बाह्य पदार्थों में जो ‘यह मेरा है’ इस प्रकार अनुरागरूप बुद्धि होती है वह लोभ है।
    नि. सा./ता. वृ./112 युक्तस्थले धनव्ययाभावो लोभः, निश्चयेन निखिलपरिग्रहपरित्यागलक्षणनिरंजन-निजपरमात्मतत्त्वपरिग्रहात् अन्यत् परमाणुमात्रद्रव्यस्वीकारो लोभः। = योग्यस्थान पर धन व्यय का अभाव वह लोभ है; निश्चय से समस्त परिग्रह का परित्याग जिसका लक्षण है, ऐसे निरंजन निज परमात्म तत्त्व के परिग्रह से अन्य परमाणुमात्र द्रव्य का स्वीकार वह लोभ है।
  2. लोभ के भेद
    रा. वा./9/6/8/596/4 लोभश्चतुःप्रकारः−जीवनलोभ आरोग्यलोभ इन्द्रियलोभ उपभोगलोभश्चेति, स प्रत्येकं द्विधा भिद्यते स्व-परविषयत्वात्। = लोभ चार प्रकार का है−जीवनलोभ, आरोग्यलोभ, इन्द्रियलोभ, उपभोगलोभ। ये चारों भी प्रत्येक स्व पर विषय के भेद से दो-दो प्रकार हैं। (चा. सा./62/5)।; (इनके लक्षण देखें शौच )।
  • अन्य सम्बन्धित विषय
    1. लोभ कषाय के अन्य भेद।−देखें मोहनीय - 3
    2. लोभ कषाय सम्बन्धी विषय।−देखें कषाय
    3. लोभ व परिग्रह संज्ञा में अन्तर।−देखें संज्ञा
    4. लोभ कषाय राग है।−देखें कषाय - 4
    5. लोभ की इष्टता-अनिष्टता।−देखें राग - 4


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

चार कषायों में चौथी कषाय । इससे धन-सम्पत्ति पाने की तीव्र इच्छा बनी रहती है । इससे जीव संसार में भ्रमता है । पद्मपुराण 14.110


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ