परम दिगम्बर यती, महागुण व्रती, करो निस्तारा

From जैनकोष

परम दिगम्बर यती, महागुण व्रती, करो निस्तारा ।
नहीं तुम बिन कौन हमारा ।।टेक ।।
तुम बीस आठ गुणधारी हो, जग जीवमात्र हितकारी हो ।
बाईस परीषह जीत धरम रखवारा ।।१ ।।नहीं तुम.
तुम आतमध्यानी ज्ञानी हो, शुचि स्वपर भेद विज्ञानी हो ।
है रत्नत्रय गुणमंडित हृदय तुम्हारा ।।२ ।।नहीं तुम.
तुम क्षमाशील समता सागर, हो विश्व पूज्य वर रत्नाकर ।
है हितमित सत उपदेश तुम्हारा प्यारा ।।३ ।।नहीं तुम.
तुम प्रेममूर्ति हो समदर्शी, हो भव्य जीव मन आकर्षी ।
है निर्विकार निर्दोष स्वरूप तुम्हारा ।।४ ।।नहीं तुम.
है यही अवस्था एक सार, जो पहुँचाती है मोक्ष द्वार ।
`सौभाग्य' आपसा बाना होय हमारा ।।५ ।।नहीं तुम.