Actions

वनस्पति

From जैनकोष

== सिद्धांतकोष से == देखें वनस्पति


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

  1. जैन दर्शन में वनस्पति को भी एकेन्द्रिय जीव का शरीर माना गया है । वह दो प्रकार का हैप्रत्येक व साधारण । एक जीव के शरीर को प्रत्येक और अनन्तों जीवों के साझले शरीर को साधारण कहते हैं, क्योंकि उस शरीर में उन अनन्तों जीवों का जन्म-मरण,श्वासोच्छ्वास आदि साधारण रूप से अर्थात् एक साथ समान रूप से होता है । एक ही शरीर में अनन्तों बसते हैं, इसलिए इस शरीर को निगोद कहते हैं, उपचार से उसमें बसने वाले जीवों को भी निगोद कहते हैं । वह निगोद भी दो प्रकार का है नित्य व इतर निगोद । जो अनादि काल से आज तक निगोद पर्याय से निकला ही नहीं, वह नित्य निगोद है  और त्रसस्थावर आदि अन्य पर्यायों में घूमकर पापोदयवश पुनः-पुनः निगोद को प्राप्त होने वाले इतर निगोद हैं । प्रत्येक शरीर बादर या स्थूल ही होता है पर साधारण बादर व सूक्ष्म दोनों प्रकार का ।
  2. नित्य खाने-पीने के काम में आने वाली वनस्पति प्रत्येक शरीर है । वह दो प्रकार हैअप्रतिष्ठित और सप्रतिष्ठित । एक ही जीव के शरीर वाली वनस्पति अप्रतिष्ठित है और असंख्यात साधारण शरीरों के समवाय से निष्पन्न वनस्पति सप्रतिष्ठित है । तहाँ एक-एक वनस्पति के स्कन्ध में एक रस होकर असंख्यात साधारण शरीर होते हैं और एक-एक उस साधारण शरीर में अनन्तानन्त निगोद जीव वास करते हैं । सूक्ष्म साधारण शरीर या निगोद जीव लोक में सर्वत्र ठसाठस भरे हुए हैं, पर सूक्ष्म होने से हमारे ज्ञान के विषय नहीं हैं । सन्तरा, आमआदि अप्रतिष्ठित प्रत्येक वनस्पति हैं और आलू, गाजर, मूली आदि सप्रतिष्ठित प्रत्येक । अप्रतिष्ठित प्रत्येक वनस्पति पत्ते, फल, फूल आदि भी अत्यन्त कचिया अवस्था में सप्रतिष्ठित प्रत्येक होते हैंजैसे कौंपल । पीछे पक जाने पर अप्रतिष्ठित हो जाते हैं । अनन्त जीवों की साझली काय होने से सप्रतिष्ठित प्रत्येक को अनन्तकायिक भी कहते हैं । इस जाति की सर्व वनस्पति को यहाँ अभक्ष्य स्वीकार किया गया है ।
  1. वनस्पति व प्रत्येक वनस्पति सामान्य निर्देश
    1. वनस्पति सामान्य के भेद ।
    2. प्रत्येक वनस्पति सामान्य का लक्षण ।
    3. प्रत्येक वनस्पति के भेद ।
    4. वनस्पति के लिए ही प्रत्येक शब्द का प्रयोग है ।
    5. मूलबीज, अग्रबीजादि के लक्षण ।
    6. प्रत्येक शरीर नामकर्म का लक्षण ।
    7. प्रत्येक शरीर वर्गणा का प्रमाण ।
    • प्रत्येक शरीर नामकर्म के असंख्यात भेद हैं।देखें नामकर्म
    • वनस्पतिकायिक जीवों के गुणस्थान, जीवसमास, मार्गणास्थान के स्वामित्व सम्बन्धी 20 प्ररूपणाएँ।
      देखें सत्
    • वनस्पतिकायिक जीवों की सत्, संख्या, क्षेत्र, स्पर्शन, काल, अन्तर, अल्पबहुत्वरूप आठ प्ररूपणाएँ ।देखें वह वह नाम
    • वनस्पतिकायिक जीवों में कर्मों का बन्ध, उदय, सत्त्व प्ररूपणाएँ ।देखें वह वह नाम
    • प्रत्येक नामकर्म की बन्ध, उदय, सत्त्व प्ररूपणाएँ ।देखें वह वह नाम
    • प्रत्येक वनस्पति में जीव समासों का स्वामित्व ।देखें वनस्पति - 1.1
    • निर्वृत्त्यपर्याप्त दशा में प्रत्येक वनस्पति में सासादन गुणस्थान की सम्भावना ।देखें सासादन - 1
    • मार्गणा प्रकरण में भाव मार्गणा की इष्टता तथा वहाँ आय के अनुसार व्यय होने का नियम ।देखें मार्गणा
    • उदम्बर फल ।देखें उदम्बर
    • वनस्पति में भक्ष्याभक्ष्य विचार−देखें भक्ष्याभक्ष्य - 4
    • वनस्पतिकायिकों का लोक में अवस्थान ।−देखें स्थावर
  2. निगोद निर्देश
    1. निगोद सामान्य का लक्षण ।
    2. निगोद जीवों के भेद ।
    3. नित्य व अनित्य निगोद के लक्षण ।
    4. सूक्ष्म वनस्पति तो निगोद ही है पर सूक्ष्म निगोद वनस्पतिकायिक ही नहीं है ।
    5. प्रतिष्ठित प्रत्येक वनस्पति को उपचार से सूक्ष्म निगोद भी कह देते हैं ।
    6. प्रतिष्ठित प्रत्येक वनस्पति को उपचार से बादर निगोद भी कह देते हैं ।
    7. साधारण जीवों को ही निगोद जीव कहते हैं ।
    8. विग्रहगति में निगोदिया जीव साधारण ही होते हैं प्रत्येक नहीं ।
    9. निगोदिया जीव का आकार ।
    10. सूक्ष्म व बादर निगोद वर्गणाएँ व उनका लोक में अवस्थान ।
    • निगोद से निकलकर सीधी मुक्ति प्राप्त करने सम्बन्धी ।−देखें जन्म - 5
    • जितने जीव मुक्त होते हैं, उतने ही नित्य निगोद से निकलते हैं ।−देखें मोक्ष - 2
    • नित्यमुक्त रहते भी निगोद राशि का अन्त नहीं ।−देखें मोक्ष - 6
  3. प्रतिष्ठित व अप्रतिष्ठित प्रत्येक शरीर परिचय
    1. प्रतिष्ठित अप्रतिष्ठित प्रत्येक के लक्षण ।
    2. प्रत्येक वनस्पति बादर ही होती है ।
    3. वनस्पति में ही साधारण जीव होते हैं पृथिवी आदि में नहीं ।
    4. पृथिवी आदि देव, नारकी, तीर्थंकर आदि प्रत्येक शरीरी ही होते हैं ।
    • क्षीणकषाय जीव के शरीर में जीवों का हानिक्रम ।−देखें क्षीणकषाय
    1. कन्द मूल आदि सभी वनस्पतियाँ प्रतिष्ठित व अप्रतिष्ठित दोनों प्रकार की होती हैं ।
    2. अप्रतिष्ठित प्रत्येक वनस्पतिस्कन्ध में भी संख्यात या असंख्यात जीव होते हैं ।
    3. प्रतिष्ठित प्रत्येक वनस्पतिस्कन्ध में अनन्त जीवों के शरीर की रचना विशेष ।
  4. साधारण वनस्पति परिचय
    1. साधारण शरीर नामकर्म का लक्षण ।
    2. साधारण जीवों का लक्षण ।
    • साधारण व प्रत्येक शरीर नामकर्म के असंख्यात भेद हैं−देखें नामकर्म
    • साधारण वनस्पति के भेद ।−देखें वनस्पति - 2.2
    1. बोने के अन्तर्मुहूर्त पर्यन्त सभी वनस्पति अप्रतिष्ठित प्रत्येक होती हैं ।
    2. कचिया अवस्था में सभी वनस्पतियाँ प्रतिष्ठित प्रत्येक होती हैं ।
    3. प्रत्येक व साधारण वनस्पति का सामान्य परिचय ।
    • प्रतिष्ठित प्रत्येक शरीर बादर जीवों का योनि स्थान है, सूक्ष्म का नहीं ।−देखें वनस्पति - 2.10
    1. एक साधारण शरीर में अनन्त जीवों का अवस्थान ।
    2. साधारण शरीर की उत्कृष्ट अवगाहना ।
    • साधारण नामकर्म की बन्ध, उदय, सत्त्व प्ररूपणाएँ ।−देखें वह वह नाम
    • साधारण वनस्पति जीवसमासों का स्वामित्व ।−देखें वनस्पति - 1.1
  5. साधारण शरीर में जीवों का उत्पत्ति क्रम
    1. निगोद शरीर में जीवों की उत्पत्ति क्रम से होती है ।
    2. निगोद शरीर में जीवों की उत्पत्ति क्रम व अक्रम दोनों प्रकार से होती है ।
    • जन्म मरण के क्रम व अक्रम सम्बन्धी समन्वय ।−देखें वनस्पति - 5.2
    1. आगे पीछे उत्पन्न होकर भी उनकी पर्याप्ति युगपत् होती है ।
    2. एक ही निगोद शरीर में जीवों के आवागमन का प्रवाह चलता रहता है ।
    • बीजवाला ही जीव या अन्य कोई भी जीव उस योनि स्थान में जन्म धारण कर सकता है ।
      देखें जन्म - 2
    1. बादर व सूक्ष्म निगोद शरीरों में पर्याप्त व अपर्याप्त जीवों के अवस्थान सम्बन्धी नियम ।
    2. अनेक जीवों का एक शरीर होने में हेतु ।
    3. अनेक जीवों का एक आहार होने में हेतु ।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ